कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए गांधी परिवार के अलावा कोई बर्दाश्त नहीं : कुणाल चौधरी

कांग्रेस में अब फिर राहुल गांधी की पार्टी अध्यक्ष के रूप में वापसी की पुरजोर वकालत शुरू होगई की है.कांग्रेस के कई बड़े नेताओं ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से संगठन में बड़े बदलाव की मांग करते हुए उन्हें पत्र लिखा है और कहा कि अगर सोनिया गाँधी इस्तीफा देती है तो राहुल गाँधी को पार्टी प्रमुख के रूप में उनकी वापसी होनी चाहिए. इसी बीच मध्य प्रदेश युवा कांग्रेस अध्यक्ष और कालापीपल से कांग्रेस के युवा विधायक कुणाल चौधरी ने भी कहा कि गराहुल गांधी को अध्यक्ष बनाने के बनाया जाए. क्योंकि वर्तमान परिस्तिथियों में जहाँ कई ताकतें लोकतंत्र और संविधान को खत्म करने में लगी हुई हैं ऐसा में कांग्रेस पार्टी को राहुल गाँधी जी के नेतृत्व की  है. कुणाल चौधरी ने यह भी कहा कि पार्टी  गांधी परिवार के आलावा कोई और उन्हें मंज़ूर नहीं है. 

कुणाल चौधरी ने कहा कि गांधी परिवार बलिदान के प्रतीक हैं. स्वर्गीय इंदिरा गांधी जी और स्वर्गीय राजीव गाँधी जी ने देश के लिए अपनी जान भी न्यौछावर कर थी लेकिन जब तक वह जीवित रहे तब तक देश के  लिए कई विकास के काम किये, जिसका परिणाम आज हम सब के सामने है. कुणाल चौधरी  कि सोनिया गाँधी जी ने भी कांग्रेस पार्टी के लिए कई बलिदान दिए हैं. राज जी के जाने के  बाद उन्होंने पार्टी की कमान संभाली और 10 साल तक केंद्र में कांग्रेस की सरकार  उन्होंने प्रधानमंत्री का पद भी ठुकराते हुए यह भी साबित किया की उन्हें सत्ता का कोई लोभ नहीं है, बल्कि पार्टी और देश उनकी प्राथमिकता रही. 

कुणाल चौधरी ने राहुल गाँधी को लेकर कहा कि 2019 में कांग्रेस सीडब्ल्यूसी का निर्णय बहुमत का फैसला था, जो एआईसीसी के 1100, प्रदेश कांग्रेस कमेटियों के 8800 सदस्यों, पांच करोड़ कार्यकर्ताओं और 12 करोड़ समर्थकों की इच्छा का परिचायक था और यह सभी लोग राहुल गांधी को अपने नेता के रूप में चाहते हैं.लेकिन राहुल जी ने अध्यक्ष पद पर बने रहने से इंकार कर दिया था. उन्होंने कहा कि राहुल गांधी एक मात्र ऐसे नेता हैं जो वरिष्ठों और युवाओं में ऊर्जा का संचार और एकजुट सकते हैं तथा कांग्रेस के अतीत के गौरव को लाने के लिए जोश और उत्साह जगा सकते हैं.

कुणाल चौधरी ने कहा की 2014 और 2019 में नतीजे पार्टी के पक्ष में नहीं रहे. उन्होंने कहा कि किसी भी नतीजे के लिए सिर्फ कप्तान ज़िम्मेदार नहीं नहीं होता बल्कि उसकी पूरी टीम होती है. कुणाल चौधरी ने कहा की देशभर के युवाओं की अगर कोई आवाज़ अगर कोई है तो वह सिर्फ और सिर्फ राहुल गाँधी जी ही है और अब वक़्त आगया है कि राहुल जी को पार्टी की कमान वापस संभल लेनी चाहिए.

Share:

Next

कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए गांधी परिवार के अलावा कोई बर्दाश्त नहीं : कुणाल चौधरी


Related Articles


Leave a Comment