20 साल पहले इसी मैदान पर मिली हार का बदला लेने उतरेगा भारत

भारत और न्यूजीलैंड के बीच गुरुवार को नॉटिंघम में क्रिकेट वर्ल्ड कप का मुकाबला खेला जाएगा। भारत और न्यूजीलैंड के बीच इसी ट्रेंट ब्रिज मैदान पर 20 साल पहले 1999 वर्ल्ड कप में भी मैच खेला गया था और उस मैच में न्यूजीलैंड विजयी हुआ था। वर्ल्ड कप में जीत-हार के लिहाज से भारत के खिलाफ न्यूजीलैंड का पलड़ा भारी है। विराट कोहली की टीम इंडिया इस मैच को जीतकर कीवी टीम से 20 साल पहले मिली हार का बदला लेते हुए क्रिकेट महाकुंभ में हिसाब बराबर करने के इरादे से मोर्चा संभालेगी।

न्यूजीलैंड और भारत की टीमें इस वर्ल्ड कप में अपराजेय बनी हुई है। न्यूजीलैंड तीनों मैच जीतकर अंक तालिका में टॉप पर हैं तो भारत दोनों मैच जीतकर चौथे क्रम पर हैं। यह मैच वर्षा से प्रभावित होने की आशंका है। दोनों टीमों के बीच वर्ल्ड कप इतिहास में अभी तक सात मैच खेले जा चुके हैं जिनमें से न्यूजीलैंड ने 4 और भारत ने 3 मैच जीते हैं। भारत के पास इस मैच को जीतकर न्यूजीलैंड की बराबरी पर पहुंचने का मौका रहेगा।

जडेजा की पारी काम न आई

1999 का वर्ल्ड कप भी इंग्लैंड में खेला गया था और इसमें 12 जून को नॉटिंघम में ही भारत और न्यूजीलैंड के बीच सुपर सिक्स का मैच खेला गया था। टीम इंडिया के लिए यह टूर्नामेंट का अंतिम मैच था क्योंकि उसके आगे बढ़ने के कोई अवसर नहीं थे। मोहम्मद अजहरूद्दीन ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाजी का फैसला किया लेकिन उनका यह फैसला गलत साबित हुआ क्योंकि शीर्षक्रम का कोई भी बल्लेबाज बड़ा योगदान नहीं दे पाया। अजय जडेजा के 76 रनों की मदद से भारत 6 विकेट पर 251 रन बना पाया। कप्तान अजहर ने 30 और सौरव गांगुली और राहुल द्रविड़ ने 29-29 रन बनाए। इसके जवाब में न्यूजीलैंड ने 10 गेंद शेष रहते 3 विकेट खोकर लक्ष्य हासिल किया और सेमीफाइनल में जगह बनाई। मैट हॉर्न ने 76 और रॉजर टूज ने 60 रन बनाए।

भारत को वर्तमान वर्ल्ड कप के अभ्यास मैच में न्यूजीलैंड के हाथों करारी शिकस्त मिली थी। टीम इंडिया अब इस मैच में न्यूजीलैंड को हराकर जीत की हैट्रिक पूरी करना चाहेगी। इसके लिए भारतीय बल्लेबाजों को दमदार प्रदर्शन कर कीवी तेज गेंदबाजों से बचना होगा। इस मैच के दौरान मौसम तेज गेंदबाजों के अनुकुल रहेगा जिसकी वजह से बल्लेबाजों की मुश्किलें बढ़ जाएंगी। टीम इंडिया को शिखर धवन की कमी भी खलेगी जो चोट के कारण इस मैच में नहीं खेल पाएंगे लेकिन ऐसे समय में ही अन्य बल्लेबाजों को जिम्मेदारीभरा प्रदर्शन करना होगा।

Share:

Next

20 साल पहले इसी मैदान पर मिली हार का बदला लेने उतरेगा भारत


Related Articles


Leave a Comment